देश विदेश

एयर इंडिया उत्तरी ध्रुव के ऊपर उड़ान भर महिला पायलटों की टीम रचेगी नयी कीर्तिमान

एयर इंडिया उत्तरी ध्रुव के ऊपर उड़ान भर महिला पायलटों की टीम रचेगी नयी कीर्तिमान

Date : 09-Jan-2021

न्यूज डेस्क। एयर इंडिया की कैप्टन जोया अग्रवाल एक और नयी कीर्तिमान रचने जा रही हैं। इस बार उनकी टीम उत्तरी ध्रुव के उपर उड़ान भरने वाली है। जो अब तक की सबसे बड़ी उपब्धि है। इससे पहले कैप्टन जोया ने एयर इंडिया की सबसे कम उम्र में बोइंग-777 को उड़ाने वाली महिला पायलट भी रह चुकी हैं। उन्होंने साल 2013 में इस उपलब्धि को हासिल किया था। उन्होंने कहा कि मैं दुनिया में बोइंग-777 की सबसे कम उम्र की महिला कमांडर हूं। महिलाओं को खुद पर यकीन करना चाहिए।
बताया जा रहा है कि एयर इंडिया की महिला पायलटों की यह टीम दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग नॉर्थ पोल यानी उत्तरी ध्रुव पर उड़ान भरने का नयी कीर्तिमान रचने जा रही है। महिला पयलटों की टीम अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को शहर से उड़ान भरते हुए यह टीम उत्तरी ध्रुव से होते हुए नौ जनवरी को बेंगलुरु पहुंचेगी और इस दौरान करीब 16 हजार किमी की दूरी तय करेगी।
एयर इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तरी ध्रुव में उड़ान भरना बेहद चुनौतीपूर्ण है और एयर लाइन कंपनियां इस मार्ग पर अपने सर्वश्रेष्ठ और अनुभवी पायलटों को ही भेजती हैं. इस बार एअर इंडिया ने सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु तक के ध्रुवीय मार्ग से यात्रा के लिए एक महिला कैप्टन को जिम्मेदारी सौंपी है। एयर इंडिया की कैप्टन जोया अग्रवाल, जो इस उड़ान की कमान संभालेंगी और उनकी अगुवाई में यह टीम 9 जनवरी को कीर्तिमान रचने के लिए उत्सुकता के साथ इंतजार कर रही है।
मेरे लिए एक स्वर्णिम अवसर: कैप्टन जोया
कैप्टन जोया अग्रवाल ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा दुनिया के ज्यादातर लोगों ने अपने जीवनकाल में उत्तरी ध्रुव या यहां तक कि इसे नक्शे पर भी नहीं देखा होगा। नागरिक उड्डयन मंत्रालय और हमारे फ्लैग कैरियर ने मुझ पर जो विश्वास जताया है। उससे मैं बहुत ही गौरवान्वित महसूस कर रही हूं। बोइंग-777 की सैन फ्रांसिस्को-बेंगलुरु की शुरुआती उड़ान को कमांड करना मेरे लिए एक स्वर्णिम अवसर है। नॉर्थ पोल से होकर गुजरने वाला यह मार्ग दुनिया के सबसे लंबे रूट में से एक है। जोया ने आगे कहा मुझे इस बात का बेहद गर्व है कि मेरे पास अनुभवी महिलाओं की टीम है, जिसमें कैप्टन थनमाई पपागरी, आकांक्षा सोनावने और शिवानी मनहस शामिल हैं। दुनिया में ऐसा पहली बार होगा जब उत्तरी ध्रुव के ऊपर से ऐसी उड़ान होगी, जिसमें सभी पायलट महिलाएं होंगी। यह अपनी तरह का एक नया कीर्तिमान होगा। वास्तव में किसी पेशेवर पायलट के लिए यह सपना सच होने जैसा है।

 

 

Related Topics