राजनीति

जो किसान बोना जानता है, वह काटना भी जानता है - लखनलाल साहू

जो किसान बोना जानता है, वह काटना भी जानता है - लखनलाल साहू

Date : 09-Jan-2021

कवर्धा। राज्य सरकार की वादाखिलाफी और धान खरीदी की अव्यवस्था को लेकर आगामी 13 जनवरी को भारतीय जनता पार्टी की विधानसभा स्तरीय प्रदर्शन को लेकर गुरूवार को भाजपा कार्यालय कवर्धा में जिला कार्यकारिणी की बैठक हुई। जिसमें जिले के संगठनप्रभारी व बिलासपुर के पूर्व सांसद लखनलाल साहू, भाजपा जिलाध्यक्ष अनिल सिंह, कवर्धा के पूर्व विधायक अशोक साहू, शिक्षा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विशेषर पटेल विशेष रूप से उपस्थित रहे। बैठक के प्रारंभ में नवगठित जिला कार्यकारिणी के सदस्यों का परिचय भी कराया गया। बैठक को संबोधित करते हुए बिलासपुर के पूर्व सांसद व जिला संगठन प्रभारी लखनसाहू ने कहा कि दो साल में विफलता के सारे कीर्तिमान हासिल कर चुकी छत्तीसगढ़ में बैठी कांग्रेस की सरकार किसान विरोधी है और प्रदेश के किसानों के साथ लगातार अन्याय कर रही है। हालात इतने खराब है कि मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष के क्षेत्र में भी किसान आत्महत्या कर रहे है। कांग्रेस ने वादाखिलाफी और विश्वासघात का रोज नया रिकार्ड बना रहे है। कांग्रेस को यह ध्यान रखना होगा कि जो किसान बोना जानता है वह काटना भी जानता है। आज पिछले वर्ष के धान की कीमत का पूरा भुगतान अभी तक नही किया गया है। वर्तमान में भी 20-20 दिन बीत जाने पर भी किसानों के खातों में एक पैसा नही पहुंचा है। पहले डाॅ. रमन सिंह सरकार में तीन से चार दिन में और कभी तो 24 घण्टे के अंदर किसान के घर पहुॅंचने से पहले किसान के खाते में राशि पहुॅंच जाती थी। दो वर्ष के बोनस आदि की तो अब कांग्रेस बात भी करना नही चाहते है। मंडी टैक्स खत्म करने का वादा किया था, अब उलटे वह टैक्स भी बढ़ा दिया है। साहू ने कहा कि सबसे बड़ा घोटाला यह भूपेश बघेल की सरकार बारदाना के नाम पर कर रही है। उसके बहाना धान खरीदी  से बचना चाहती है। विधानसभा में जवाद देते हुए राज्य सरकार ने कहा था कि प्रदेश में इस सीजन में कुल 4 लाख 45 हजार गठान की जरूरत होती है जिसमें 3 लाख 30 हजार बारदाना उपलब्ध है और एक लाख 15 हजार बारदाने की जरूरत होगी। समय रहते उससे संबंधित कुछ भी नही किया भूपेश सरकार ने। आज प्रदेश में हालात यह है कि किसान खुद 30 से 40 रूपये में बारदाना खरीदने को मजबूर है। भूपेश बघेल की सरकार किसानों का धान खरीदने से बचने के लिए तरह - तरह के हठकंडे अपना रही है। खुद प्लास्टिक का बोरा इस्तेमाल करती है और किसानों से जूट का बोरा लाने को कह रही है एवं किसानोें को तीस रूपये में जूट बोरा खरीदना पड़ रहा है। उन्होने कहा कि कांग्रेस ने जब अपने चुनावी घोषणा पत्र में लोकलुभावन वादे किए थे तब छत्तीसगढ़ प्रदेश की जिम्मेदार मीडिया ने उनसे सवाल किया था कि कैसे करेंगे वादे पूरे तब कांग्रेस और भूपेश बघेल का जवाब था हम नए संसाधन और अवसर लाएंगे उससे व्यवस्था कर वादे पूरे करेंगे। आज मानो भूपेश बघेल की सरकार केन्द्र सरकार के ही भरोसे अपने लोकलुभावन वादे पूरे करना चाहती है।

भाजपा जिलाध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता को ऋण ले कर कर्जदार बनाने वाली सरकार आज अपने वादों से और धान खरीदी से भागना चाहती है और इसीलिए कभी केन्द्र सरकार पर तो कभी भाजपा पर बेबुनियाद आरोप लगा कर बचना चाहती है। देर से धान खरीदी कर इसने कम धान खरीदने की सालिश रची। इसी का परिणाम है कि धान के कटोरे का किसान अभी भी दर-दर भटक रहा है जबकि कांग्रेस शासित पंजाब में ही कुल खरीदी का 54 प्रतिशत धान खरीदा गया है। एक महिना विलंब से धान खरीदी करना छत्तीसगढ़ के भोले भाले किसानों के खिलाफ कांग्रेस द्वारा अपने व्यापारी, बिचौलिए दलाल मित्रों को लाभ पहुॅंचाने का षडयंत्र है। छत्तीसगढ़ सरकार बारदाने का बहाना बना कंेद्र सरकार पर ठीकरा फोड़ने का प्रयास कर रहे है जबकि सच्चाई यह है कि बारदाना के व्यवस्था की सम्पूर्ण जवाबदारी राज्य सरकार की है। उन्होने कहा कि भारतीय जनता पार्टी छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ खड़ी है और प्रदेश के भूपेश बघेल सरकार की बहानेबाजी, षडयंत्र और वादा खिलाफी, धान खरीदी में अव्यवस्था, रकबा कटौती जैसे किसान विरोधी कृत्यों के खिलाफ प्रदर्शन करेगी । भाजपा आने वाले 13 जनवरी को प्रदेशभर के साथ जिले के दो विधानसभा में तथा 22 जनवरी को जिलास्तर पर प्रदर्शन करेगी। तथा प्रदर्शन के बाद राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपेगी । उन्होने कहा कि किसी कीमत पर किसानों से अन्याय भाजपा सहन नही करेगी।

पूर्व विधायक अशोक साहू ने अपने संबोधन में कहा कि रकबा कटौती करके, खेत के मेड़ के रकबा को काटकर भूपेश बघेल की सरकार ने किसानों के साथ अन्याय किया है अब अपने नाकामियों को छुपाने का कोना खोज रहे है। जब छत्तीसगढ़ का किसान खेत के मेड़ के रकबे का सिंचाई टैक्स पटाता है, और लगान भी देता है तो खेत की मेंड़ के रकबे की कटौती धान खरीदी में क्यों कर रही है। गंगाजल की कसम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित कांग्रेस के लोगों ने खाई। छत्तीसगढ़ की भोली-भाली जनता से ठक कर वोट लिया और अब केन्द्र सरकार को हर विषय में बीच में ले आते है। ये सब इनकी आदत में ही है। इन सब हथकंडों से भूपेश बघेल की सरकार और कांग्रेस धान खरीदने से भागना चाहते है। बैठक को गौसेवा आयोग के पूर्व अध्यक्ष विशेषर पटेल ने भी संबोधित किया। बैठक में भाजपा जिलामहामंत्री विरेन्द्र साहू, क्रांती गुप्ता, कोषाध्यक्ष अजीत चंद्रवंशी, जिलाउपाध्यक्ष संतोष पटेल, शिवनाथ वर्मा, जिलामंत्री दुर्गेश ठाकुर, सुरेश दुबे, रोशन दुबे, ओम यदू, नीतू शर्मा, राजकुमारी साहू, पुष्पलता राज, जनपद अध्यक्ष इंद्राणी चंद्रवंशी, जिलापंचायत सदस्य रामकृष्ण साहू, महिला मोर्चा अध्यक्ष रति ठाकुर, सविता ठाकुर, सतविंदर पाहूजा, अजजा मोर्चा अध्यक्ष संतराम धुर्वे सहित बड़ी संख्या में जिला पदाधिकारी, कार्यकारिणी सदस्य, मंडल अध्यक्ष व महामंत्री उपस्थित रहे।

Related Topics