अपराध

गैरइरादतन हत्या के आरोपित डॉक्टरों को मिली जमानत

गैरइरादतन हत्या के आरोपित डॉक्टरों को मिली जमानत

Date : 08-Jan-2021

खैरागढ़। गलत इलाज से युवक की मौत मामले में पुलिस ने आरोपित डॉक्टरों की मौजूदगी में क्लिनिक का सील तोडक़र सामान जप्त किया। नायब तहसीलदार लीलाधर कंवर, एसआई अनाराम साहू सहित अन्य ने आरोपित डॉक्टर देवीलाल भवानी व अरूण भारद्वाज की उपस्थिति में पंचनामा तैयार किया। सील जांच बाद ताला तोडऩे की कारवाई की गई। जिसके बाद क्लिनिक के दोनों कमरों का बारीकी से मौका मुआयना कर दवाईयों की जप्ती बनाई गई। इस दौरान क्लिनिक में पुलिस को जेंटामाईसिन, मोनोसेप दवाईयों के अलावा इजेक्शन की खाली सीरिंज और टांके लगाने की सुई ही मिली। जबकि आश्ंका थी कि जिस प्रकार से इलाके में बवासीर, भगंदर जैसी गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए डॉक्टर भवानी का नाम चलता है। उस हिसाब से क्लिनिक में आपरेशन थियेटर हो सकता है। लेकिन यहां सिर्फ मरीज को इंजेक्शन लगाने टेबल पर बनाया अस्थाई बेड ही नजर आया। मौके पर मौजूद डॉक्टर भवानी ने बताया कि वो यहां सिर्फ मरीजों का परीक्षण कर प्राथमिक उपचार ही करते है, आपरेशन की अफवाह फैली है। 
ये है पूरा मामला
राजफेमली निवासी 32 साल के युवक आदर्श सिंह ने 24 दिसंबर को डॉक्टर भवानी से पाईल्स का इलाज कराया था। स्थिति दिनो-दिन बिगड़ती गई और चार दिन बाद 28 की सुबह राजनांदगांव में उसकी मौत हो गई। मामले में परिजनों ने डॉ देवीलाल भवानी और डॉ अरूण भारद्वाज पर युवक का गलत इलाज करने का आरोप लगाते हुए थाने में शिकायत आवेदन देकर कारवाई की मांग की। पीएम रिपोर्ट मिलने पर पुलिस ने दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 ए गैर इरादतन हत्या और 34 के तहत मामला दर्ज किया। वही छग मेडिकल एक्ट की धारा 12 एलसीजी के तहत कारवाई की। इस दौरान स्वास्थ्य, पुलिस और राजस्व की टीम ने आरोपित डॉक्टर के क्लिनिक को सील कर दिया था।

#Crime #IPC304a

Related Topics