जीवन शैली

लॉकडॉउन में घर में रहने से बढ़ सकती है स्ट्रेस की समस्या, ये टिप्स आएंगे काम

Date : 14-Apr-2020
केंद्र सरकार ने देशभर में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लॉग डॉउन की मियाद 3 मई तक बढ़ा दी है. लंबे वक्त से से घर में कैद होने की वजह से लोगों में स्ट्रेस (मानसिक तनाव) की समस्या बढ़ सकती है. लॉकडाउन में स्ट्रेस की समस्या से निपटने में ये टिप्स आपके बहुत काम आ सकते है। म्यूजिक, रीडिंग, पेंटिंग- यदि आप लोगों के बीच रहकर अकेला महसूस करते हैं और यहां भी मानसिक अवसाद आपका पीछा नहीं छोड़ रहा है तो अच्छी चीजें पढ़ना-लिखना शुरू कर दें. आप चाहें तो पेंटिंग भी कर सकते हैं या फिर अपना पसंदीदा म्यूजिक सुन सकते हैं. ताजी हवा में सांस लेने से आपका दिमाग सही दिशा में दौड़ेगा और आप हर चीज को लेकर हाइपर नहीं होंगे. अकेलेपन में लोगों से मिलने और उनसे बात करने का बड़ा मन करता है. ऐसे में आप वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दोस्तों से कनेक्ट हो सकते हैं. एक्सरसाइज करने से सेहत बनने के साथ तनाव भी कम होता है. एक्सरसाइज करने से हमारी बॉडी से हैपी हार्मोन रिलीज होते हैं, जिसके चलते हमारा तनाव कुछ ही पल में गायब हो जाता है. लेकिन अगर आपके पास एक्सरसाइज का समय नहीं है तो आप दिन में कुछ मिनट तक जरूर टहलें. आप जिस प्रकार का खाना खाते हैं, आपका स्वभाव भी वैसा ही हो जाता है. इसलिए हमेशा हेल्दी खाने का सेवन करें. और आखिर में जो लोग अपनी नींद के साथ समझौता करते हैं, उनकी सेहत को गंभीर रूप से नुकसान पहुंच सकता है. नींद पूरी ना होने की वजह से लोग कई सारी शारीरिक और मानसिक बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं. अगर आप अच्छी नींद लेंगे तो पूरे दिन शरीर उर्जा बनी रहेगी. साथ ही आप अपने काम को सही तरीके से कर पाएंगे और आपका मूड पहले के मुकाबले बेहतर रहेगा. वैसे बता दें, 7 से 9 घंटे की नींद एक इंसान के लिए जरूरी होती है.

शोध: अब आयुर्वेद में गुर्दा रोगियों का इलाज मुमकिन

Date : 06-Nov-2019

नई दिल्ली : अब आयुर्वेद में गुर्दा रोगियों का उपचार संभव है। औषधीय पौधा पुनर्नवा से बनी आयुर्वेदिक दवाएं गुर्दे की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को पुनर्जीवित कर सकती हैं। हालांकि यह उपचार गुर्दे की खराबी का आरंभ में पता चलने पर ज्यादा प्रभावी होगी। अब तक हुए दो अध्ययनों में इसकी पुष्टि हुई है। आयुष मंत्रालय वैकल्पिक चिकित्सा को बढ़ावा देने के लिए इस पर काम कर रहा है।

आयुष मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि ‘वर्ल्ड जर्नल ऑफ फार्मेसी एंड फार्मास्युटिकल साइंसेज’ में बीएचयू का एक शोध प्रकाशित हुआ है, जिसमें गुर्दे की बीमारी से पीड़ित एक महिला को एक महीने तक पुनर्नवा सीरप दिया गया। इससे उसके रक्त में क्रिएटिनिन का स्तर 7.1 से घटकर महज 4.5 एमजी रह गया, जबकि यूरिया का स्तर 225 से घटकर 187 एमजी तक आ गया। इतना ही नहीं हीमोग्लोबिन का स्तर 7.1 से बढ़कर 9.2 हुआ। शोध परिणाम में पुष्ट हुई कि पुनर्नवा से बनी दवा से गुर्दे की बीमारी ठीक होती है बल्कि यह हीमोग्लोबिन भी बढ़ाती है।

सोशल मीडिया में हमारे साथ जुड़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे-
https://janmudda.com 
https://www.facebook.com/Janmudda-News-110717617037694/?modal=admin_todo_tour 
https://twitter.com/home?lang=en
https://www.instagram.com/janmudda/?hl=hi 

प्रकृति के गोद में बिताएं 20 मिनट, मिलेगी तनाव से मुक्ति

Date : 06-Nov-2019

वॉशिंगटन: ऐसी जगह जो प्रकृति का अहसास दे, वहां पर महज 20 मिनट बिताने से आपके तनाव के स्तर में कमी आ सकती है.  अध्ययन में पाया गया है कि ‘नेचर पिल्स’ मानव की बेहतरी के लिए असरदार भूमिका निभाने में सक्षम है. यह अध्ययन जर्नल ‘फ्रंटियर्स इन साइकोलॉजी’ में प्रकाशित हुआ है.

अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर मैरीकोरल हंटर ने कहा कि हम जानते हैं कि प्रकृति में समय बिताने से तनाव में कमी आ सकती है लेकिन अभी तक यह पता नहीं था कि कि इसके लिए कितना वक्त पर्याप्त होता है और हम ऐसा कितनी बार करें या किस प्रकार के प्राकृतिक अनुभव हमारे लिए फायदेमंद हैं.

हंटर ने एक बयान में कहा कि उनका अध्ययन बताता है कि तनाव वाले हार्मोन कॉर्टीसोल का स्तर पर्याप्त रूप से कम करने के लिए हमें 20 से 30 मिनट ऐसी जगह बैठना होगा या चलना होगा जहां पर प्रकृति के होने का अहसास हो.

नेचर पिल्स, कम लागत वाला एक ऐसा उपाय हो सकता है जो बढ़ते नगरीकरण और टीवी वगैरह देखने से घर में बंधे रहने के कारण हमारी सेहत पर पड़ रहे खराब असर से हमें बचा सकता है. 


सोशल मीडिया में हमारे साथ जुड़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे-

https://janmudda.com 

https://www.facebook.com/Janmudda-News-110717617037694/?modal=admin_todo_tour 
https://twitter.com/home?lang=en
https://www.instagram.com/janmudda/?hl=hi 

इस सब्जी को खाने से 7 दिन में दिखेगा असर

Date : 06-Nov-2019

नई दिल्ली : बदलती लाइफ स्टाइल और जंक फूड के बढ़ते चलन के बीच लोगों ने पौष्टिक चीजों का सेवन काफी कम कर दिया है. हरी सब्जी हमेशा से ही स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी होती हैं. दाल-सब्जी का नियमित सेवन आपको तमाम रोगों से दूर रखता है और हष्ट-पुष्ट रखता है. लेकिन इस सबके बीच कुछ सब्जियां ऐसी भी हैं जो कम समय में ही अपना असर दिखाना शुरू कर देती हैं. ऐसी ही सब्जी का नाम है कंटोला, इसे दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी कहा जाता है. यह औषधि के रूप में भी प्रयोग में लाई जाती है. इसका कुछ दिन सेवन करने से ही आपका शरीर तंदुरुस्त बन जाता है या यूं कहें कि फौलादी बन जाता है. कुछ जगह कंटोला को ककोड़े और मीठा करेला भी कहते हैं.

स्वादिष्ट होने के साथ ही प्रोटीन से भरपूर
आयुर्वेद में भी कंटोला को सबसे ताकतवर सब्जी माना गया है. कंटोला खाने में स्वादिष्ट होने के साथ ही प्रोटीन से भरपूर सब्जी है. रोजाना इसका सेवन करने से शरीर में ताकत आती है. जानकारों का कहना है कि इसमें मीट से 50 गुना ज्यादा ताकत और प्रोटीन होता है. कंटोला में मौजूद फाइटोकेमिकल्स आपको सेहतमंद बनाता है. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर कंटोला आपके रक्त को साफ रखता है, जिससे त्वचा संबंधी बीमारियां भी नहीं होती.

स्वास्थ्य के लिए कई तरह से फायदेमंद
आमतौर पर मानसून की शुरुआत में बाजार में मिलने वाला कंटोला कई तरह से स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है. बढ़ती मांग को देखते हुए इसकी खेती दुनियाभर में शुरू हो गई है. मुख्य रूप से यह देश के पर्वतीय क्षेत्रों में उगाया जाता है.
 

वजन घटाने में कारगर
कंटोला में प्रोटीन और आयरन भरपूर मात्रा में और कैलोरी कम मात्रा में होती है. यदि आप 100 ग्राम कंटोला की सब्जी का सेवन करते हैं तो 17 कैलोरी प्राप्त होती है. जिससे वजन घटाने वाले लोगों के लिए यह बेहतर विकल्प है.


सोशल मीडिया में हमारे साथ जुड़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे-
https://janmudda.com 
https://www.facebook.com/Janmudda-News-110717617037694/?modal=admin_todo_tour 
https://twitter.com/home?lang=en
https://www.instagram.com/janmudda/?hl=hi 

खाली पेट पीएं नींबू-अदरक की चाय

Date : 06-Nov-2019

नई दिल्ली : हमारे देश में चाय प्रेमियों की कमी नहीं हैं, इसल‍िए हमारे यहां कई फ्लेवर्ड की चाय मिलती है। जहां फिटनेस फ्रीक लोगों को ग्रीन टी पसंद है तो भी किसी को बारिश में अदरक वाली चाय पीना पसंद होता है। सर्दी-जुकाम होने पर अदरक की चाय काफी फायदेमंद मानी गई है। वहीं, अगर इसमें नींबू की कुछ बूंदे मिला ली जाएं तो कहना ही क्‍या। कई लोग खुश को हेल्‍दी रखने के ल‍िए सुबह-सुबह लेमन जिंजर टी का सेवन करते हैं, लेमन जिंजी यानी नींबू अदरक की चाय पीने से लेमन जिंजर टी पीने से जी मिचलाना, सिरदर्द व ठंड जैसी कई परेशानियों से राहत मिलती है। इसके अलावा इसके और भी फायदे हैं आइए जानते हैं। 

डिटॉक्‍स करें बॉडी

नींबू हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है, जो किडनी, लिवर और आंत संबंधित कई जानलेवा बीमारियों से बचाने में मदद करता है। रोजाना सुबह इस चाय को पीने से आप तरोताजा महसूस करेंगे। 

सर्दी जुकाम में मददगार

लेमन और जिंजर टी यानी नींबू और अदरक की चाय रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है। इसके साथ ही यह आपको सर्दी जुकाम से बचाने का काम करती है। नींबू और अदरक दोनों संक्रमण से लड़ने में काफी प्रभावशाली होते हैं। ये सर्दी, खांसी व फ्लू की अवधि को कम करते हैं और आपके शरीर को साल्मोनेला जैसे संक्रमणों से बचाते हैं। 

मूड को बनाए रखता है खुशनुमा

लेमन टी और जिंजर एक तरह से आपको मानसिक तौर पर शांति प्रदान करता है जिसकी वजह से आपका मूड हमेशा अच्छा रहता है। 


सोशल मीडिया में हमारे साथ जुड़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे-
https://janmudda.com 
https://www.facebook.com/Janmudda-News-110717617037694/?modal=admin_todo_tour 
https://twitter.com/home?lang=en
https://www.instagram.com/janmudda/?hl=hi